Janmashtami Utsav

जन्माष्टमी

जन्माष्टमी पर्व को भगवान श्री कृष्ण के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है | यह पर्व संपूर्ण विश्व में पूर्ण आस्था एवं श्रद्धा के साथ मनाया जाता है | जन्माष्टमी को भारत में ही नहीं , बल्कि विदेशों में बसे भारतीय भी पूरी आस्था और उल्लास से मनाते हैं |

श्री कृष्ण युगों -युगों से हमारी आस्था के केंद्र रहे हैं |वे कभी यशोदा मैया के लाल होते है ,तो कभी ब्रज के नटखट कान्हा |

भगवान श्री कृष्ण के जन्मोत्सव का दिन बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है | जन्माष्टमी पर्व भगवान श्री कृष्ण के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है जो रक्षाबंधन के बाद भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है |
गोपाल्स गार्डन हायस्कूल में भी श्री कृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार १६ अगस्त के दिन बड़े ही धूमधाम से मनाया गया | इस कार्यक्रम की शुरुवात भजन और कीर्तन के साथ हुई | फिर अभिषेक किया गया| अभिषेक के बाद छात्र २ री से लेकर ६ वी तक के छात्रों ने संगीतमय रूप से कृष्ण भगवान के बाल लीलाओं को दिखाया जो बहुत ही मधुरम था |

प्रमुख अतिथि मुकुंद माला प्रभुजी और सत्यानंद प्रभुजी थे |मुकुंद माला प्रभुजी ने भी छात्रों को कृष्ण भगवान के बालरूप की अनेक गाथाएँ बताई | अंत में आरती संपन्न हुई |आरती के बाद इस बार हमारे स्कूल में एक दहीहंडी का आयोजन किया था |जिसके लिए चार हाउस के कप्तान और उनके टीम ने बहुत प्रयास करके अलग अलग प्रकार की चार चिट्ठियाँ खोजकर लाई इसमें सर्व प्रथम शंख हाउस ने सब चार चिट्ठियाँ सबसे पहले लाई इसलिए हंडी फोड़ने का मौका उन्हें मिला |
इस प्रकार अंत में सभी ने प्रसाद का आस्वाद लिया और कार्यक्रम संपन्न हुआ |